गणतंत्र दिवस निबंध 2023|Republic Day Essay in Hindi

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

गणतंत्र दिवस पर निबंध :– 26 जनवरी का दिन भारत के लिए विशेष महत्व का दिन है। इस दिन को गणतंत्र दिवस (Republic Day) के नाम से जाना जाता है। क्योकि 26 जनवरी 1950 को भारतीय संविधान लागू हुआ। तभी से प्रति वर्ष 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस के रूप में मनाया जाता है। गणतंत्र दिवस पर पूरे देश में विभिन्न सांस्कृतिक कार्यक्रम होते हैं। विद्यालयों, विश्वविद्यालयों में छात्र छात्राओं व शिक्षकों द्वारा गणतंत्र दिवस पर भाषण , कवितायें , पेंटिंग, नृत्य, गायन आदि कार्यक्रम प्रस्तुत किये जाते हैं। सार्वजनिक, निजी सभी जगहों पर ध्वजारोहण के साथ मिठाईयों का वितरण किया जाता है।

गणतंत्र दिवस निबंध 2023|Republic Day Essay in Hindi
HAPPY Republic Day

इस लेख में हम आपको 26 जनवरी पर निबंध व भाषण की तैयारी के लिये दो निबंध प्रस्तुत कर रहें हैं। यहाँ हम आपको गणतंत्र दिवस निबंध (Republic Day Essay in hindi) दे रहें हैं। जिसका प्रयोग कर आप अपने लिये एक अच्छा निबंध और भाषण तैयार कर सकते हैं। आशा है कि यह गणतंत्र दिवस निबंध ( Republic Day Essay) आपके बहुत ही उपयोगी साबित होगा।

गणतंत्र दिवस निबंध (Republic Day Essay in hindi|Gantantra divas nibandh)

हम आपको दो निबंध एक 300 शब्दों में और एक 500 शब्दों में लिख रहें हैं।

गणतंत्र दिवस निबंध 1 (300 शब्द)

प्रस्तावना

26 जनवरी को भारत में गणतंत्र दिवस के रूप में मनाया जाता है। क्योंकि आज के ही दिन 26 जनवरी 1950 को हमारा देश का संविधान लागू हुआ था। गणतंत्र दिवस भारत के तीन राष्ट्रीय पर्वों में से एक है। अन्य दो राष्ट्रीय पर्व स्वतंत्रता दिवस (15 अगस्त) और गाँधी जयंती (2 अक्टूबर) हैं।

भारतीय संविधान के लागू होने के साथ सभी ब्रिटिश कानून समाप्त हो गये और भारत एक लोकतांत्रिक गणराज्य देश गया। आज भारत पूरे विश्व में सबसे बड़ा लोकतांत्रिक देश है।

गणतंत्र दिवस का इतिहास

दिसंबर 1929 को काग्रेंस अधिवेशन में पूर्ण स्वतंत्रता की घोषणा की गयी। और उसी 28 -29 दिसंबर की रात को काग्रेंस ने रावी नदी के तट पर तिरंगा झण्डा फरहाया। और 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस मनाने की बात स्वीकार की गयी।

भारतीय संविधान 26 नवंबर 1949 को बनकर तैयार हो गया लेकिन पहले की गयी घोषणा के अनुसार इसे 26 जनवरी 1950 को लागू किया गया। तभी से हर साल 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस के रूप में मनाया जाता है।

भव्य समारोह

26 जनवरी को दिल्ली राजपथ पर भारतीय सेनाओं और स्कूली बच्चों के द्वारा भव्य परेड का आयोजन किया जाता है। भारतीय सेना द्वारा शक्ति प्रदर्शन भी होता है।जिसमें भारतीय प्रधानमंत्री सहित अन्य मंत्री और देश के सम्मानीय नागरिक शामिल होते हैं। जगह जगह पूरे देश में सभी सार्वजनिक और निजी संस्थानों में प्रभात फेरी, ध्वजारोहण के साथ विभिन्न सांस्कृतिक कार्यक्रम होते हैं। और मिष्ठान वितरण भी किया जाता है।

उपसंहार

भारतीय संविधान को ड्राफ्ट कमेटी द्वारा 2 वर्ष 11 माह 18 दिन में बनाकर तैयार किया गया था । भारतीय संविधान विश्व का सबसे बड़ा लिखित संविधान है। भारतीय संविधान सभी भारतीय नागरिकों को समानता और स्वतंत्रता का अधिकार देता है। भारतीय संविधान राजनैतिक, सामाजिक और आर्थिक न्याय भी सुनिश्चित करता है।

संविधान के लागू होने की खुशी में गणतंत्र दिवस के शुभ अवसर पर पूरे देश में सांस्कृतिक कार्यक्रम मनाये जाते हैं। और सभी भारतीय नागरिक एक दूसरे को शुभकामनाएं देते हैं।

और भी पढ़ें

गणतंत्र दिवस 2023 पर दस वाक्य | Republic Day 10 lines in hindi

गणतंत्र दिवस निबंध 2 (500 शब्द)

प्रस्तावना

26 जनवरी भारत के विशेष महत्व का दिन है क्योंकि इसी दिन 26 जनवरी 1950 को भारतीय संविधान पूरे देश में लागू हुआ। इस दिन को गणतंत्र दिवस के नाम से जाना जाता है। यह भारत के तीन राष्ट्रीय पर्वों में से एक है। इसी कारण पूरे भारतवर्ष में सभी भारतीय गणतंत्र दिवस को खूब हर्षोल्लास से मनाते हैं।

भारतीय गणतंत्र दिवस का इतिहास

28 दिसबंर 1929 को काग्रेंस अधिवेशन में पूर्ण स्वराज का संकल्प पारित किया गया। सभी काग्रेंस के सदस्यों ने 28-29 दिसम्बर की रात को रावी नदी के किनारे भारतीय तिरंगा झण्डा को फहराया। और काग्रेंस द्वारा 26 जनवरी को स्वराज्य दिवस मनाया जाना सुनिश्चित किया गया।

भारतीय संविधान पर अंकित तिथि 26 नवंबर 1949 है। लेकिन संविधान को पूर्व योजना के अनुसार 26 जनवरी 1950 को लागू किया गया। तभी से प्रतिवर्ष 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस मनाया जाता है।

भारतीय संविधान का निर्माण डॉ.भीमराव अंबेडकर की अध्यक्षता वाली सात सदस्यीय प्रारूप समिति (ड्राफ्ट कमेटी) ने लगभग 60 देशों के संविधान को छानने के बाद किया। संविधान को बनाने में 2 वर्ष 11 माह 18 दिन का समय लगा। और उस समय लगभग 64 लाख रूपये का खर्च आया।

गणतंत्र दिवस का महत्व

आजादी से पहले भारत में अग्रेजों के द्वारा बनाये गये कानून लागू होते थे। आजादी के बाद भारत अग्रेजों की पराधीनता से मुक्त हुआ और नये लोकतांत्रिक गणराज्य की नीव रखी गयी। गणतंत्र का मतलब होता है कि देश के प्रमुख का चुनाव जनता करेगी। राष्टपति भारत का संवैधानिक प्रमुख होता है। जिसका चुनाव अप्रत्यक्ष रूप से भारतीय जनता द्वारा किया जाता है। भारत विश्व का सबसे बड़ा गणतंत्र देश है।

गणतंत्र दिवस पर भव्य समारोह

गणतंत्र दिवस के अवसर पर दिल्ली राजपथ पर भारतीय सेना और स्कूलों के बच्चों द्वारा भव्य परेड का आयोजन किया जाता है। जिसमें भारत के प्रधानमंत्री और अन्य देशों के अतिथि तथा भारतीय मंत्री, सम्मानित नागरिक शामिल होते हैं।

गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर भारत के राष्ट्रपति द्वारा ‘राष्ट्र के नाम संदेश’ जारी किया जाता है। और गणतंत्र दिवस पर भारतीय राष्टपति द्वारा विभिन्न पुरस्कार पद्म विभूषण, पद्मभूषण, पद्मश्री आदि से भी सम्मानित किया जाता है।

गणतंत्र दिवस के बाद भारतीय सेना द्वारा ‘बीटिंग द रीट्रीट’ कार्यक्रम प्रस्तुत किया जाता है। जिसमें तीनों सेनायें पारंपरिक धुन के साथ मार्च करती हैं। यह गणतंत्र दिवस की कार्यक्रमों की समाप्ति का सूचक होता है। जिसे 29 जनवरी को प्रस्तुत किया जाता है।

उपसंहार

26 जनवरी पर पूरे देश में खुशी का माहौल होता है। स्कूलों और विश्वविद्यालयों में सुबह पहले प्रभात फेरी निकाली जाता है। ध्वजारोहण कार्यक्रम के साथ राष्ट्रगान और झण्डा गीत गाया जाता है। फिर विभिन्न सांस्कृतिक कार्यक्रम होते हैं। सभी सार्वजनिक और निजी संस्थानों पर भी ध्वजारोहण और राष्ट्रगान होता है। देश भावना से ओतप्रोत नारे लगाये जाते हैं। पूरे देश जगह जगह सांस्कृतिक कार्यक्रम जैसे – भाषण, निबंध लेखन, नृत्य, गायन, नाटक, काव्य संगोष्ठी आदि की जाती हैं। सब लोग मिठाई बाटते हैं और एक दूसरे को शुभकामनाएं देते हैं।

और भी पढ़ें

FIFA World Cup 2022 Important Facts | फीफा वर्ल्ड कप 2022 के महत्वपूर्ण तथ्य

गणतंत्र दिवस से जुड़े रोचक तथ्य

गणतंत्र दिवस से जुड़ी कुछ रोचक बातें निम्नलिखित हैं –

  • पहली बार 26 जनवरी 1930 को पूर्ण स्वराज मनाया गया था। जिसमें अग्रेजों से आजादी का प्रण लिया गया। इसलिए भारतीय संविधान को 26 जनवरी की तिथि को लागू किया गया।
  • गणतंत्र दिवस की परेड के दौरान एक क्रिश्चियन ध्वनि ‘अबाईड वीथ मी’ जाती है जोकि महात्मा गाँधी जी की प्रिय ध्वनि है।
  • गणतंत्र दिवस का राजपथ पर पहली बार आयोजन 1955 में हुआ था।
  • भारतीय गणतंत्र दिवस पर भारत के राष्ट्रपति को 31 तोपों की सलामी दी जाती है।
  • गणतंत्र पर कार्यक्रमों का समापन सेना के ध्वनि मार्च ‘बीटिंग द रीट्रीट’ के साथ होता है। जोकि हर साल 29 जनवरी को होता है।

और भी पढ़ें

NCF – 2005 क्या है | राष्ट्रीय पाठ्यचर्या की रूपरेखा नोट्स

गणतंत्र दिवस से जुड़े प्रश्न

प्रश्न 1 – भारतीय संविधान को बनाने में कितना समय लगा?

उत्तर – भारतीय संविधान के निर्माण में 2 वर्ष 11 माह 18 दिन का समय लगा।

प्रश्न 2 – भारतीय संविधान निर्माण में कितना खर्च आया?

उत्तर – भारतीय संविधान के निर्माण में लगभग 64 लाख रूपये का खर्च आया।

प्रश्न 3 – भारतीय गणतंत्र दिवस कब मनाया जाता है?

उत्तर – भारतीय गणतंत्र दिवस 26 जनवरी को मनाया जाता है।

प्रश्न 4 – भारतीय संविधान कब लागू हुआ?

उत्तर – भारतीय संविधान 26 जनवरी 1950 को लागू हुआ।

प्रश्न 5 – भारत के राष्ट्रीय पर्व कौन कौन से हैं?

उत्तर – भारत के तीन राष्ट्रीय पर्व हैं।

  1. 15 अगस्त (स्वतंत्रता दिवस)
  2. 02 अक्टूबर (गाँधी जयंती)
  3. 26 जनवरी (गणतंत्र दिवस)

और अधिक जानकारी के लिए हमारे यूट्यूब चैनल Abhyas Classes पर विजिट करें।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

Abhyas classes के माध्यम से हम प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे अभ्यर्थियों की मदद करने का निरंतर प्रयास कर रहे हैं। हमें यह पूर्ण विश्वास भी है, कि धन, समय और दूरी जैसी अनेक बाधाओं को समाप्त कर, गुणवत्ता वाली इस अध्ययन प्रणाली के द्वारा हम सभी उम्मीदवारों की भरसक सहायता कर सकें। आशा है कि इस लेख से आप सभी को मदद मिलेगी। शुभकामनाएं!

Leave a Comment